Monday, December 14, 2009

"ये किस मक़ाम पे मेरी हयात लाई मुझे,
 जो मुस्कुराना भी चाहूँ तो अश्क़ बहते हैं"

3 comments: